हिमाचल की लापता युवती ओमान में मिली, 23 दिसंबर को आखिरी कॉल, फोन और पासपोर्ट छीना, खाने पीने को कुछ नहीं दिया

Anil Kashyap
0
न्यूज अपडेट्स 
हिमाचल के कांगड़ा की लापता युवती ओमान में मिली है। पवना को एजेंट ने नौकरी के लिए दुबई भेजा था। इसके बाद धोखे से उसे ओमान भेज दिया गया। कांगड़ा के ASP वीर बहादुर ने पवना के मिलने की पुष्टि की। ASP ने बताया कि पवना अब इंडियन एंबेसी में सुरक्षित है। उसे जल्द वापस भारत लाया जाएगा।

23 साल की पवना के भाई रोहित ने बताया कि पवना 16 दिसंबर 2023 को चंडीगढ़ की एजेंट के जरिए दिल्ली से दुबई नौकरी के लिए गई थी। उसी दिन एयरपोर्ट से उसका फोन आया। इसके बाद 23 दिसंबर को पवना ने आखिरी बार कॉल की। उसने यह कॉल किसी व्यक्ति का मोबाइल लेकर की है। पवना ने बताया कि वह ओमान में फंसी है। उसके साथ कुछ और युवतियां भी हैं। रोहित ने कहा कि चंडीगढ़ की एजेंट ने उसकी बहन को धोखे से ओमान भेजा है। वहां उससे फोन और पासपोर्ट छीन लिया गया। खाने पीने को कुछ नहीं दिया जा रहा।

एजेंट से पूछताछ कर रही पुलिस: शिकायत के बाद पुलिस ने ब्यूरो ऑफ इमिग्रेशन को चिट्ठी लिखी। इमिग्रेशन से जवाब आया कि पवना पहले दुबई गई है। पुलिस ने ओमान और दुबई की एंबेसी से संपर्क किया। इसके बाद पवना के ओमान में होनी की बात पता चली। पुलिस चंडीगढ़ की उस एजेंट से भी पूछताछ कर रही है, जिसके जरिए पवना दुबई गई थी।

एजेंट ने दुबई में अच्छी सैलरी का झांसा दिया रोहित ने बताया कि वह गरीब परिवार से हैं। उनके पिता की मौत हो चुकी है। गरीबी के कारण बहन पवना काफी टाइम से नौकरी की तलाश कर रही थी। जिस एजेंट के जरिए वह विदेश गई, उससे पवना चंडीगढ़ में नौकरी की मांग कर रही थी। पवना बीए सेकेंड ईयर की पढ़ाई कर रही थी। एजेंट ने उसे दुबई में अच्छी सैलरी पर कोई जॉब दिलाने का वादा किया था।

शाहपुर विधायक ने CM के सामने उठाया था मामला शाहपुर विधायक केवल सिंह पठानिया ने मुख्यमंत्री सुखविंदर सुक्खू के समक्ष भी इस मामले को उठाया था। इस पर मुख्यमंत्री ने भी जल्द उचित कार्रवाई करने के निर्देश दिए।

Post a Comment

0 Comments
Post a Comment (0)
To Top