हिमाचल : जरूरतमंद बच्चों को देंगे मुफ्त शिक्षा, एमओयू साइन करके जल्द लागू करेंगे योजना : अनिल कश्यप

News Updates Network
0
न्यूज अपडेट्स 
चंडीगढ़, 12 फरवरी: रोज़माइन एजुकेशनल एंड चैरिटेबल ट्रस्ट के चेयरमैन अवैस अंबर ने उत्तर प्रदेश, हरियाणा, चंडीगढ़, पंजाब और हिमाचल प्रदेश से अपनी टीम के साथ इंडो ग्लोबल कैम्पस में एक बैठक की। बैठक का मकसद यह सुनिश्चित करना था कि क्या उनकी टीम जानती है कि छात्र-छात्राओं को 2024 सेशन में कक्षाओं के लिए सही तरीके से पंजीकृत करने में कैसे मदद दी जाए या इसपर विचार-विमर्श कर के इसे और बेहतर किया जा सकता है।

उन्होंने सुनिश्चित किया कि सभी को पता चले कि छात्रों को अध्ययन के दौरान परिसर में ही रहना होगा। 10वीं या 12वीं कक्षा के बाद गाँव के छात्र-छात्राओं को विशेष रूप से अधिक अध्ययन करने के बारे में काफी बात की। उन्होंने कहा कि चाहे वे कंप्यूटर, स्वास्थ्य सेवा या व्यवसाय के बारे में सीखना चाहते हों, यह सिर्फ उनके लिए ही अच्छा नहीं है बल्कि पूरे देश के लिए अच्छा है।

विश्वविद्यालय (University) के पाठ्यक्रमों के लिए पंजीकरण बहुत आसान होना चाहिए। कोई टेस्ट/एंट्रेंस एग्जाम नहीं, कोई समस्या नहीं - बस यह चुनें कि आप क्या अध्ययन करना चाहते हैं और आप इसे कहाँ अध्ययन करना चाहते हैं। वह चाहते हैं कि हर छात्र बिना किसी परेशानी के अपना रास्ता चुन सके।

रोज़माइन ट्रस्ट पूरे देश के छात्रों, विशेष रूप से ग्रामीण इलाकों के छात्रों को बेहतर शिक्षा (Education) प्राप्त करने में मदद करने के बारे में है। यह बैठक यह सुनिश्चित करने की दिशा में एक कदम था कि अधिक छात्र सीख सकें और आगे बढ़ सकें, जिससे भारत में सभी के लिए बेहतर भविष्य का निर्माण हो सके। ईमानदार रहने, छात्रों को प्रोत्साहित करने और चीजों को आसान बनाने पर ध्यान देकर, ट्रस्ट (Trust) यह सुनिश्चित करने के लिए कड़ी मेहनत कर रहा है कि शिक्षा सभी के लिए हो। यह एक स्मार्ट, मजबूत भारत बनाने के बारे में है।

उधर, Salisa Foundation के निदेशक अनिल कश्यप ने बताया जरूरतमंद बच्चों के लिए यह योजना है। जल्द ही एमओयू साइन करके मुफ्त उच्च शिक्षा योजना को हिमाचल प्रदेश में लागू किया जाएगा। इस मौके पर विवेक शर्मा, हंस राज और जगदीश मौजूद रहे। 

Post a Comment

0 Comments
Post a Comment (0)
To Top