बिलासपुर: तीनों बेटियां एम्स में बनी नर्सिंग ऑफिसर, हर चीज का बनाया था टाइम टेबल, गांव में खुशी का माहौल

Anil Kashyap
0
न्यूज अपडेट्स 
बिलासपुर, 24 अक्टूबर: हिमाचल प्रदेश के बिलासपुर जिला मुख्यालय के समीप है ग्राम पंचायत कोठीपुरा. इस पंचायत में गांव है चंगर -पलासी. इस गांव की खास बात यह है कि यहां की तीन बेटियां नर्सिंग ऑफिसर बन गई हैं. 

अब ये तीनों होनहार बेटियां एम्स में सेवाएं देंगी. सुमन शर्मा एम्स दिल्ली, स्वाति शर्मा एम्स पटना और परीक्षा शर्मा एम्स ऋषिकेश में बतौर नर्सिंग ऑफिसर आम लोगों की सेवा करेंगीं. उनके एम्स में चयनित होने पर गांव खुशी से झूम उठा. गांववालों ने मिलकर तीनों बेटियों का जोरदार स्वागत किया और उन्हें मिठाई खिलाई.

तीनों बेटियों के चयन पर ग्राम पंचायत कोठीपुरा के पूर्व प्रधान नंदलाल ठाकुर ने कहा कि तीन होनहार बेटियों ने एम्स में नर्सिंग ऑफिसर बनकर गांव का नाम रोशन किया है. तीनों बेटियां बधाई की पात्र हैं. उन्होंने कहा कि सामान्य वर्ग पद पर इन बेटियों का चयन हुआ है. अन्य युवाओं को भी इन बेटियों से प्रेरणा लेनी चाहिए. युवाओं को अपना लक्ष्य पूरा करने के लिए कड़ी मेहनत करनी चाहिए. ताकि, वह भी अपने परिजनों और इलाके का नाम ऊंचा कर सकें.

हर चीज का बनाया टाइम टेबल

इस मौके पर तीनों युवतियों ने बताया कि उन्होंने इसके लिए खास तैयारी की थी. कुछ जगह कोंचिंग ली और खुद भी स्टडी की. परीक्षा दी और फिर आखिरकार नौकरी लग गई. उन्होंने बताया कि इस दौरान पूरी तरह अनुशासन बनाए रखा. कब सोना, कब जागना और कब मनोरंजन करना है, सबका समय निश्चित कर रखा था. हमारा पूरा फोकस केवल पढ़ाई पर था, ताकि एम्स में भर्ती होकर लोगों की सेवा करें और माता-पिता का नाम रोशन करें.

Post a Comment

0 Comments
Post a Comment (0)
To Top