India News: खतरे की घंटी! देश में डेल्टा वेरिएंट की जगह ले रहा ओमिक्रॉन, तीसरी लहर की आहट

News Updates Network
0
नई दिल्ली. कोरोना वायरस के नए वेरिएंट ओमिक्रॉन ने भारत में डेल्टा स्वरूप की जगह लेनी शुरू कर दी है. समाचार एजेंसी एएनआई ने आधिकारिक सूत्रों के हवाले से शुक्रवार को यह जानकारी दी. उन्होंने बताया कि ओमिक्रॉन की वजह से कोरोना मामलों के बढ़ने की जो रफ्तार है इससे वो डेल्टा वेरिएंट का स्थान लेता जा रहा है. भारत में महामारी की दूसरी लहर के लिए कोरोना के डेल्टा वेरिएंट को ही जिम्मेदार माना जाता है.

इस बीच,  भारत में कोरोना वायरस के ओमिक्रॉन स्वरूप के 309 नए मामले सामने आने से देश में ऐसे मामलों की कुल संख्या 1,270 हो गई है. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के शुक्रवार सुबह जारी ताजा आंकड़ों के अनुसार, अभी तक 23 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेश से ओमिक्रॉन के 1,270 मामले आए हैं और 374 लोग स्वस्थ हो गए या देश छोड़कर चले गए हैं. महाराष्ट्र में सबसे अधिक 450 मामले आए. इसके बाद दिल्ली में 320, केरल में 109 और गुजरात में 97 मामले सामने आए.

कोरोना के दैनिक मामले 16,000 के पार आंकड़ों के मुताबिक, कोविड-19 के दैनिक मामले करीब 64 दिनों बाद 16,000 का आंकड़ा पार कर गए हैं जिससे भारत में कोविड-19 के कुल मामलों की संख्या 3,48,38,804 हो गई है, जबकि उपचाराधीन मरीजों की संख्या बढ़कर 91,361 हो गई है. भारत में एक दिन में संक्रमण के 16,794 नए मामले आए, जबकि 220 मरीजों के जान गंवाने से मृतकों की संख्या 4,81,080 पर पहुंच गई है.

कोरोना मरीजों के स्वस्थ होने की राष्ट्रीय दर 98.36% 27 अक्टूबर को 24 घंटों में कोरोना वायरस के 16,158 नए मामले सामने आए थे. मंत्रालय के अनुसार, उपचाराधीन मरीजों की संख्या बढ़कर 91,361 हो गई है जो संक्रमण के कुल मामलों का 0.26 प्रतिशत है, जबकि कोविड-19 से स्वस्थ होने की राष्ट्रीय दर 98.36 प्रतिशत दर्ज की गई. देश में 24 घंटे में कोविड-19 के उपचाराधीन मरीजों की संख्या में 8,959 की वृद्धि दर्ज की गई है.

देश में पिछले साल सात अगस्त को संक्रमितों की संख्या 20 लाख, 23 अगस्त को 30 लाख और पांच सितंबर को 40 लाख से अधिक हो गई थी. वहीं, संक्रमण के कुल मामले 16 सितंबर को 50 लाख, 28 सितंबर को 60 लाख, 11 अक्टूबर को 70 लाख, 29 अक्टूबर को 80 लाख और 20 नवंबर को 90 लाख के पार चले गए थे. देश में 19 दिसंबर को ये मामले एक करोड़ के पार, इस साल चार मई को दो करोड़ के पार और 23 जून को तीन करोड़ के पार चले गए थे.

Post a Comment

0 Comments
Post a Comment (0)
To Top