हिमाचल: जयराम ठाकुर के आठ मंत्री चुनाव हारे, जानिए कितने मिले वोट

हिमाचल के रण में जयराम ठाकुर समेत कुल 11 मंत्रियों की प्रतिष्ठा दांव पर थी. लेकिन इनमें से 8 मंत्रियों ने अपनी साख गवां दी है. बीते कई चुनाव में 50 से 70 फीसदी मंत्रियों को सियासी दंगल में हार का सामना करना पड़ता है और यही परंपरा वर्ष 2022 में रही. जानें सभी मंत्रियों के चुनावी परिणाम… (Himachal Pradesh assembly election result 2022 ) (election result 2022 winners)

1. जयराम ठाकुर जीते : सीएम जयराम ठाकुर सराज सीट से अपनी किस्मत चमका चुके हैं. कांग्रेस के उम्मीदवार चेतराम ठाकुर को भारी मतों से हराकर उन्होंने वीरभद्र सिंह और प्रेम कुमार धूमल का रिकॉर्ड भी तोड़ दिया है. सीएम ने लगातार छठी बार जीत दर्ज की है. 13वें राउंड में जयराम ठाकुर ने 34050 वोट की बढ़त बनाई और 14वें राउंड में 36176 वोटों से आगे हैं. 57 साल के जयराम ठाकुर 6 चुनाव भाजपा पार्टी से ही लड़े और सभी चुनावों 1998, 2003, 2007, 2012, 2017, 2022 में जीत हासिल की है.

2. सुरेश भारद्वाज हारे: शहरी विकास मंत्री और कसुम्पटी विधानसभा सीट से बीजेपी प्रत्याशी सुरेश भारद्वाज चुनाव हार चुके हैं. सुरेश भारद्वाज को शिमला शहरी की जगह कसुम्पटी से उतारा गया, जहां कांग्रेस के अनिरूद्ध सिंह ने भारद्वाज को 10 हजार से भी ज्यादा मतों से हराया है।

पशुपालन, मत्स्य पालन विभाग के मंत्री रहे 58 वर्षीय वीरेंद्र कंवर भी कमाल नहीं कर पाए. कांग्रेस के उम्मीदवार 49 वर्षीय देवेंद्र कुमार भुट्टो ने कंवर को 7 हजार से ज्यादा मतों से पटखनी दी है. साल 2017 का चुनाव भाजपा के वीरेंद्र कंवर ने कांग्रेस के व‍िवेक शर्मा को हराकर जीता था. वीरेंद्र कंवर इस सीट पर पिछले चार चुनाव यानी 2003 से लगातार जीतते आ रहे थे. इस बार कांग्रेस ने यहां बाजी पलट दी है.

क्या कहता है इतिहास: साल 2012 से 2017 तक हिमाचल में कांग्रेस की सरकार रही थी. तत्कालीन मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह की कैबिनेट में विद्या स्टोक्स, कौल सिंह ठाकुर, जीएस बाली, प्रकाश चौधरी, धनीराम शांडिल, अनिल शर्मा, कर्ण सिंह, मुकेश अग्निहोत्री, सुजान सिंह पठानिया, सुधीर शर्मा और ठाकुर सिंह भरमौरी मंत्री थे. लेकिन इन सभी में से महज तीन मंत्री ही अपनी सीट बचा पाए थे.

इनमें सोलन से धनीराम शांडिल, ऊना के हरोली से मुकेश अग्निहोत्री और फतेहपुर से सुजान सिंह पठानिया शामिल थे. वीरभद्र सरकार में मंत्री रहे कौल सिंह ठाकुर, जीएस बाली, प्रकाश चौधरी, सुधीर शर्मा और ठाकुर सिंह भरमौरी को हार का सामना करना पड़ा था, जबकि विद्या स्टोक्स नामांकन रद्द हो गया. इसके अलावा, अनिल शर्मा चुनाव से ठीक पहले भाजपा में शामिल हुए थे और बाद में चुनाव जीते थे. वहीं, कुल्लू से कैबिनेट मंत्री रहे कर्ण सिंह का निधन हो गया था.

हिमाचल में साल 2007 से 2012 तक भाजपा की सरकार थी. उस समय प्रेम कुमार धूमल सीएम थे. धूमल सरकार में जेपी नड्डा, नरेंद्र बरागटा, महेंद्र सिंह ठाकुर, सरवीण चौधरी, गुलाब सिंह ठाकुर, राजीव बिंदल, आईडी धीमान, किशन कपूर, रविंद्र रवि, खीमीराम, रमेश धवाला कैबिनेट मंत्री रहे. 2012 के विधानसभा चुनाव में इनमें से 4 मंत्री नरेंद्र बरागटा, किशन कपूर, खीमीराम और रमेश धवाला हार गए, जबकि जेपी नड्डा केंद्रीय राजनीति में चले गए और उन्होंने चुनाव नहीं लड़ा था।

Post a Comment

0 Comments
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.